Ras Topper (RANK 4) – Sukha Ram Pindel

Ras Topper (RANK 4) – Sukha Ram Pindel SUKHARAM PINDEL sir shares his R.A.S Mains copies .We thank him from the bottom of our hearts. He has secured the highest of marks in all 4 papers.We are sure aspirants would learn from his exceptional answer writing skill!! Link for.the copies – https://drive.google.com/folderview?id=0Bw7Bkwxc-FFEcHkxbFRYbTZhZkE Sir can be reached here -https://m.facebook.com/profile.php?id=100005767485888

Read More

आज का गोत्र/गोत: *छिकारा*

*भाईचारे की बात* आज का गोत्र/गोत: *छिकारा* छिकारा गोत्र चिक नाम के स्थान पर पड़ा है। मिथक ये भी है कि ये शिव के ही एक दूसरे नाम _कारा_ से पड़ा है, पूर्व काल में ये श्रीकारा कहलाते थे और वर्तमान में इनका अपभ्रंश छिकारा हो गया है। एक मत ये भी है कि छिकारा गोत्र मान गोत्र के वंशज हैं। छिल्लर और छिकारा जाटो का भाईचारा है। ये दोनों गोत्र दलाल और देसवाल गोत्र से भी जुड़े हैं। छिकारा गोत्र के गांव मुख्यतः हरियाणा और UP में हैं और…

Read More

The Kingdom of Bharatpur

The Kingdom of Bharatpur was carved out by the legendary Jat warriors, Badan Singh and Suraj Mal. Under their able leadership the territory of Bharatpur expanded far beyond the original boundaries of the town of Bharatpur and the Jats became a power to be reckoned with in this region. Such was the might of the Jats that Bharatpur came to be known as the impregnable city. The forces of Bharatpur were the only ones which fought successfully against the British. In the unsuccessful siege of the Lohagarh fort, the British…

Read More

Proud moment

Proud moment 2 are jat Among Top 4 SPs of Rajasthan, congratulation Rajeev Pachar sir & Sawai singh sir🙏🏼💐 www.jatnews.org ईमानदारी में नंबर वन काम में भी नंबर वन फिर भी सरकार दबाव में आकर नहीं देती अच्छी पोस्टिंग करती रहती है बार-बार तबादला

Read More

चाहर जाट

चाहर जाट इस वंश के लोग संयुक्त-प्रदेश के आगरा जिले में बहुत हैं। सच्चाई और सीधेपन के लिये ये खूंटेल जाटों की भांति प्रसिद्ध हैं। रंग के उजलेपन मे खूंटेलों से कुछ हल्के और परिश्रम में श्रेष्ठ होते हैं। सिनसिनवार, खूंटेल तथा सोगरवारों की भांति चाहर भी फौजदार कहलाते हैं। फौजदार का खिताब बादशाहों की ओर से उन लोगों को बताया जाता था जो कि किसी प्रदेश के किसी भाग की रक्षा का भार अपने ऊपर ले लेते थे। चाहर लोगों में रामकी चाहर बड़ा बहादुर हुआ है। इसने सुग्रीवगढ़…

Read More

आज का गोत्र/गोत: *भादू*

*भाईचारे की बात* आज का गोत्र/गोत: *भादू* पौराणिक साक्ष्य मानते हैं कि भादू महाभारत कालीन _भद्रक_ जाती के लोगों के वंशज हैं जो की जरासंध के प्रकोप से बचने के लिये पश्चिमी दिशा में पलायन कर गए थे। आधुनिक इतिहास के अनुसार, भादू जाट जांगल देश के भदावर प्रदेश पर राज करते थे और चौहानों के समर्थक रहे हैं। भदावर प्रदेश के शासक जाट क्षत्रिय समुदाय भादू, भदौरिया, भदौतिया इत्यादि इत्यादि नाम से प्रसिद्ध हुये। उत्तर काल में इन्होंने अजमेर मेरवार के कई इलाकों में भी राज किया था जो बाद में…

Read More

आज का गोत्र/गोत: *नेहरा*

*भाईचारे की बात* आज का गोत्र/गोत: *नेहरा* नेहरा गोत्र नरहरि देव के वंशज हैं और सूर्यवंशी जाट हैं। नेहरा गोत्र सिंध प्रदेश (आज के झुंझनू के पास भी अब इसी नाम से एक पहाड़ी है) के पर्वत के नेहरा नाम के ही नाम पर पड़ा है। नेहरा जाटों के एक शाख अफगानिस्तान और ईरान में पाए जाने वाले नेहरोई clan से भी जोड़ी जाती है। जो इस बात का भी प्रमाण माना जाता है कि नेहरा भी कई अन्य जाट गोत्रो की तरह एक क्षत्रिय कौम है। पाणिनि ने कदाचित…

Read More

आज का गोत्र/गोत: *कुल्हाड़ी/कुल्हरी*

*भाईचारे की बात* आज का गोत्र/गोत: *कुल्हाड़ी/कुल्हरी* पौराणिक मिथक है कि कुल्हरी जाट धृतराष्ट्र के पुत्र कुंडिक के वंशज हैं। दूसरा प्रचलित मत ये है कि कुल्हरी जाट राजा भट्टी के पौत्र खुल्लर राय के वंशज हैं। एक मत ये भी है कि कुल्हाड़ी हरियाणा के एक राजा की संतान हैं। ऐतिहासिक साक्ष्यों के आधार पर पता लगता है कि कुल्हरी जाट यौधेय वंशज हैं और मध्य काल में सिंध प्रदेश से migrate हो कर आज के राजस्थान में आ बसे थे। सबसे पहले ये माउंट आबू क्षेत्र में बसे…

Read More