किसान मसीहा की जरूरत है

किसान मसीहा की अब जरूरत है आधुनिक भारत के निर्माताओं में तीन लोग ऐसे हुए हैं, जिन्होंने गरीब किसान और जनता की भलाई के लिए अपना पूरा जीवन खपा दिया। हालांकि उनको वैसी देशव्यापी प्रतिष्ठा नहीं मिली, जिसके वे हकदार थे लेकिन गरीब किसान उन्हें नहीं भूले। भले वे हिंदू हों या मुसलमान। न तो इन्होंने कभी किसानों को जातियों में बांटा, न धार्मिक आधार पर भेदभाव किया, न क्षेत्रीय आधार पर। इसीलिए किसानों के बीच इनकी लोकप्रियता कभी नहीं घटी। इन तीनों नेताओं ने न तो मुसलमानों को वोट…

Read More