​As per Delhi Gazette 1912, Jats held 48% of the total land in Dilli.

As per Delhi Gazette 1912, Jats held 48% of the total land in Dilli. This data came from 1911 census and Dilli became the capital of India in the same year. On the basis of Land Acquisition Act 1894, the rapid acquisition of our land took place. First of all 23 villages including Malcha and Raisina were uprooted to make Lutyens’ Dilli,  Where Rashtrapati Bhawan, North-South blocks, Parliament, Embassies stand there. Apart from losing ancestor’s land and agricultural profession forever, those villages lost our traditional Culture which was being practiced…

Read More

अनुज चौधरी CO , बरला अलीगढ़

कल देर रात हुए एक एनकाउंटर में अर्जुन अवार्डी ,ओलम्पियन बड़े भाई अनुज चौधरी (CO , बरला अलीगढ़) ने सीने पर गोली खा कर अपनी टीम के साथ 50 हजार के इनामी बदमाश विकाश उर्फ खुजली को मार गिराया है । हम सभी अनुज भाई की जांबाजी को सलाम करते हुए ईश्वर से उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं।

Read More

दिनांक 20 सितंबर 2017 को एक अनुसंधान पेपर जाटों पर प्रकाशित हुआ है जिसके लेखक हैं –  1. David Mahal –  School of Sport and Biomedical Sciences, University of Bolton, Bolton, United Kingdom 2. Ianis G. Matsoukas – Extension Division, University of California, Los Angeles, Los Angeles, CA, United States इस लेख में वैज्ञानिक अध्ययन के आधार पर यह प्रमाणित किया गया है कि जाट विश्व के 9 विभिन्न क्षेत्रों से आकर एक समूह के रूप में बने हैं। इससे पाणिनी के अष्टाध्यायी के उस सूत्र का प्रमाणीकरण होता है…

Read More

आज का गोत्र/गोत: *गोदारा*

*भाईचारे की बात* आज का गोत्र/गोत: *गोदारा* गोदारा गोत्र की उत्पत्ति को लेकर कई किवंदतियां प्रचलित हैं। एक अनुमान ये है कि इस गोत्र के लोग गोदावरी नदी के किनारे बसे थे इसलिए इनका नाम गोदारा पड़ गया। दूसरी प्रचलित कथा के अनुसार गोदारा मेवाड़ प्रदेश के गोहित वंश के राजा गोहा दत्त के वंशज हैं।  अन्य स्त्रोतों के अनुसार, लगभग 15वी शताब्दी में गोदारा गोत्र के लोगों का जंगला देश प्रदेश में एक समय मे लगभग 700 गांवों पर राज था। भरतपुर-जयपुर रोड पर हलेना के पूर्व की ओर…

Read More

आज का गोत्र/गोत: *राणा*

*भाईचारे की बात* आज का गोत्र/गोत: *राणा* राणा ने केवल एक गोत्र है, अपितु एक लड़ाकों द्वारा use की जाने वाली उपाधि भी है। इसी कारण राणा गोत्र ना केवल जाट समाज में बल्कि अन्य warrior समुदायों जैसे राजपूत, मुस्लिमो, गोरखों द्वारा भी इस्तेमाल किया जाता है। कहा जाता है कि राणा जाट सूर्यवंशी हैं। कुछ लोग कहते हैं कि राणा जाट शिशोदिया वंश के हैं। वास्तव में बात यह हो सकती है कि सिसोदिया और राणा एक ही वंश-वृक्ष की दो शाखाएं हों। रस्म-रिवाजों के अन्तर से कुछ लोग…

Read More